मिलती है ख़ूए-यार[1] से नार[2] इल्तिहाब[3] में
काफ़िर हूँ गर न मिलती हो राहत अ़ज़ाब[4] में

कब से हूँ क्या बताऊँ जहां-ए-ख़राब में
शब-हाए-हिज्र[5] को भी रखूँ गर हिसाब में

ता फिर न इन्तज़ार में नींद आये उम्र भर
आने का अ़हद[6] कर गये आये जो ख़्वाब में

क़ासिद[7] के आते-आते ख़त इक और लिख रखूँ
मैं जानता हूँ, जो वो लिखेंगे जवाब में

मुझ तक कब उनकी बज़्म में आता था दौर-ए-जाम
साक़ी ने कुछ मिला न दिया हो शराब में

जो मुन्किर-ए-वफ़ा[8] हो फ़रेब उस पे क्या चले
क्यों बदगुमां हूँ दोस्त से, दुश्मन के बाब[9] में

मैं मुज़्तरिब[10] हूँ वस्ल में ख़ौफ़-ए-रक़ीब[11] से
डाला है तुमको वह्म ने किस पेच-ओ-ताब में

मै और हज़्ज़-ए-वस्ल[12] ख़ुदा-साज़[13] बात है
जां नज़्र देनी भूल गया इज़्तिराब[14] में

है तेवरी चढ़ी हुई अंदर नक़ाब के
है इक शिकन पड़ी हुई तर्फ़-ए-नक़ाब में

लाखों लगाव, एक चुराना निगाह का
लाखों बनाव, एक बिगड़ना इताब[15] में

वो नाला दिल में ख़स के बराबर जगह न पाये
जिस नाले से शिगाफ़ पड़े आफ़ताब[16] में

वो सेह़र[17] मुद्दआ़-तलबी[18] में न काम आये
जिस सेहर से सफ़ीना[19] रवां[20] हो सराब[21] में

'ग़ालिब' छूटी शराब, पर अब भी कभी-कभी
पीता हूँ रोज़-ए-अब्रो[22]-शब-ए-माहताब[23] में

शब्दार्थ:
  1. प्रेयसी का स्वभाव
  2. आग(नरक)
  3. लपट
  4. दुःख
  5. वियोग की रातें
  6. वादा
  7. संदेशवाहक
  8. वफ़ा से इंकार करनेवाला
  9. सम्बंध
  10. बेचैन
  11. प्रतिद्वंदी
  12. मिलने का खुशी
  13. खुदा की देन
  14. विकलता
  15. गुस्सा
  16. सूरत
  17. जादू-मंत्र
  18. इच्छापूर्ती
  19. नाव
  20. चलता
  21. मरीचिका
  22. जिस दिन बादल छाया हो
  23. चाँदनी रात
Please join our telegram group for more such stories and updates.telegram channel

Books related to दीवान ए ग़ालिब


मिर्ज़ा ग़ालिब की रचनाएँ
दीवान ए ग़ालिब