घर हमारा जो न रोते भी तो वीरां[1] होता
बहर[2] गर बहर न होता तो बयाबां[3] होता

तंगी-ए-दिल का गिला क्या ये वो काफ़िर दिल है
कि अगर तंग न होता, तो परेशां होता

बादे-यक उम्र-वराअ[4] बार[5] तो देता बारे[6]
काश, रिज़्वां[7] ही दर-ए-यार का दरबां होता

शब्दार्थ:
  1. बरबाद
  2. समुद्र
  3. उज़ाड़,रेगिस्तान
  4. उम्र भर के संयम का बाद
  5. प्रवेश-आज्ञा
  6. ज़रूर
  7. स्वर्ग का दरबान
Please join our telegram group for more such stories and updates.telegram channel

Books related to दीवान ए ग़ालिब


मिर्ज़ा ग़ालिब की रचनाएँ
दीवान ए ग़ालिब