गर न अन्दोहे[1]-शबे-फ़ुरक़त[2] बयां हो जाएगा
बे-तकल्लुफ़, दाग़-ए-मह[3] मुहर-ए-दहां[4] हो जाएगा

ज़हरा[5] गर ऐसा ही शाम-ए-हिज़र[6] में होता है आब[7]
पर्तव-ए-माहताब[8] सैल-ए-ख़ान-मां[9] हो जाएगा

ले तो लूं सोते में, उस के पांव का बोसा[10], मगर
ऐसी बातों से वह काफ़िर बद-गुमां[11] हो जाएगा

दिल को हम सरफ़-ए-वफ़ा[12] समझे थे क्या मालूम था
यानी यह पहले ही नज़र-ए-इम्तिहां[13] हो जाएगा

सब के दिल में है जगह तेरी, जो तू राज़ी हुआ
मुझ पे गोया इक ज़माना मेहर-बां हो जाएगा

गर निगाह-ए-गरम[14] फ़रमाती रही तालीम-ए-ज़ब्त[15]
शोला ख़स[16] में जैसे, ख़ूं रग में निहां[17] हो जाएगा

बाग़ में मुझ को न ले जा, वरना मेरे हाल पर
हर गुल-ए-तर[18] एक चश्म-ए-ख़ूं-फ़िशां[19] हो जाएगा

वाए[20], गर मेरा-तेरा इंसाफ़ महशर[21] में न हो
अब तलक तो, यह तवक़्क़ो[22] है कि वां हो जाएगा

फ़ायदा क्या! सोच, आख़िर तू भी दाना[23] है 'असद '
दोस्ती नादां[24] की है, जी का ज़ियां[25] हो जाएगा

शब्दार्थ:
  1. क्षोभ
  2. जुदाई की रात
  3. चांद का दाग
  4. मुंह पर मुहर
  5. पित्ता
  6. विरह की शाम
  7. पानी
  8. चांदनी की किरन
  9. घर की बाढ़
  10. चुंबन
  11. असंतुष्ट
  12. प्रेम के लिए अर्पित
  13. परीक्षा की भेंट
  14. रोष की दृष्टि
  15. संयम की शिक्षा
  16. घास
  17. छुप
  18. फूल
  19. खून के आँसू बरसाती हुई आँख
  20. हाय
  21. कयामत के दिन
  22. उम्मीद
  23. समझदार
  24. बे-समझ
  25. नुकसान
Please join our telegram group for more such stories and updates.telegram channel

Books related to दीवान ए ग़ालिब


मिर्ज़ा ग़ालिब की रचनाएँ
दीवान ए ग़ालिब