कथासरित्सागर

विपदाओं से रक्षा करो, यह न मेरी प्रार्थना - रबीन्द्रनाथ टैगोर

Author:संकलित

विपदाओं से रक्षा करो-
     यह न मेरी प्रार्थना,
      यह करो : विपद् में न हो भय।
दुख से व्यथित मन को मेरे
       भले न हो सांत्वना,
          यह करो : दुख पर मिले विजय।

मिल सके न यदि सहारा,
अपना बल न करे किनारा; -
क्षति ही क्षति मिले जगत् में
                 मिले केवल वंचना,
मन में जगत् में न लगे क्षय।

करो तुम्हीं त्राण मेरा-
   यह न मेरी प्रार्थना,
       तरण शक्ति रहे अनामय।
भार भले कम न करो,
भले न दो सांत्वना,
        यह करो : ढो सकूँ भार-वय।
        सिर नवाकर झेलूँगा सुख,
        पहचानूँगा तुम्हारा मुख,
मगर दुख-निशा में सारा
       जग करे जब वंचना,
यह करो : तुममें न हो संशय।

 

 

Comments
Please login to comment. Click here.

It is quick and simple! Signing up will also enable you to write and publish your own books.

Please join our telegram group for more such stories and updates.

Books related to कथासरित्सागर


Krupin ki kahaniya
प्रेरणादायक कहानियाँ
शनिवार व्रत कथा
मुल्ला नसरुदीन के किस्से
चुनिंदा कहानियाँ
संतोषी माता व्रत एवं पूजा विधि
मैंने क्या किया